Menu Close

एक भाई की दो हॉट बहने

हैल्लो दोस्तों, मेरे बारे में आप सभी पहले से ही जानते है, क्योंकि में भी आप सभी की तरह अब तक ना जाने कितनी कहानियों के मज़े ले चुका हूँ और आज की मेरी इस कहानी से पहले भी मैंने अपनी घटना को आप सभी की सेवा में हाजिर किया था. दोस्तों में फिर भी अपनी कहानी को शुरू करने से पहले अपना परिचय दे देती हूँ.

मेरी उम्र 22 साल है और में अभी एक कॉलेज से बी.कॉम की पढ़ाई कर रही हूँ और आज में बहुत दिनों के बाद अपनी एक सच्ची घटना को लिखने जा रही हूँ. दोस्तों ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि में आज कल पढ़ाई में बहुत व्यस्त रहती हूँ इसलिए मुझे लिखने का समय नहीं मिलता, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि मैंने सेक्सी कहानियों को पढ़ना बंद कर दिया है. अब भी में आप लोगों की घटनाओ को पढ़कर मज़े जरुर करती हूँ. दोस्तों में आज आप सभी को अपनी एक सच्ची घटना बताने जा रही हूँ, उस खेल में मुझे भी बहुत मस्त मज़ा आया और आज आप सभी को भी जरुर मज़ा आएगा ऐसा मेरा मन कहता है और अब शुरू करते है. दोस्तों यह बात उन दिनों की है जब मेरे पेपर के बाद कुछ दिनों की छुट्टियाँ चल रही थी और इसलिए में अपने घर में ही थी.

फिर मुझे दो दिन के बाद पता चला कि मेरी चचेरी बहन जिसका नाम सुमन है, उसकी उम्र 20 है वो हमारे घर आने वाली है और वो मेरे साथ ही कुछ दिन रहेगी. दोस्तों वो रिश्ते में मेरे मामा जी की लड़की थी, लेकिन उसको मिले हुए मुझे करीब तीन चार साल हो चुके थे और इस बीच हम दोनों कभी नहीं मिले. फिर वो लोग रविवार के दिन ही हमारे घर आ गए और सुमन भी उनके साथ ही थी, लेकिन में उसको इतने दिनों के बाद मिलने की वजह से पहचान भी नहीं सकी. दोस्तों वो दिखने में बहुत ही सुंदर थी, इसलिए में उसकी तरफ बड़ी आकर्षित थी, क्योंकि उसका वो गोरा बदन बड़े आकार के एकदम गोलमटोल बूब्स मेरे पूरा ध्यान अपनी तरफ खीच रहे थे.

अब हम दोनों ने एक दूसरे की तरफ मुस्कुराते हुए बड़े ही प्यार से हालचाल पूछने के बाद बैठकर बहुत सारी बातें की मुझे उसके साथ बैठना बातें करना बहुत अच्छा लगा और इसलिए मुझे पता ही नहीं चला कि इतनी जल्दी रात भी हो गई. फिर हम दोनों ने साथ में बैठकर खाना खाया, मुझे उसका व्यहवार बात करने का तरीका बड़ा पसंद आया और कुछ देर के बाद रात को वो मेरे कमरे में सोने के लिए आ गयी और उसने उस समय मेक्सी पहनी हुई थी. दोस्तों मैंने भी उस समय मेक्सी पहनी हुई थी, वो बहुत हॉट सेक्सी नजर आ रही थी और बार बार मेरी नजर उसके बदन को घूरने लगी थी. अब हम दोनों बातों ही बातों में बहुत अच्छी तरह से खुल चुके थे, इसलिए अब हम बातें हंसी मजाक करने लगे थे.

में : सुमन यार एक बात तो तुम मुझे सच सच बताओ क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?

सुमन : हाँ है ना यार और वैसे आजकल यह सभी का होता है.

में : अच्छा तो यह बात है.

सुमन : और तुम्हारा है कि नहीं वो भी तो तुम मुझे बताओ?

में : हाँ यार मेरा भी है.

सुमन : अच्छा मतलब कि तुम भी पीछे नहीं हो.

में : अच्छा ठीक है, अब तुम मुझे सच सच एक बात बताओ क्या कभी तुमने उसके साथ कुछ किया है?

सुमन : मतलब वो नहीं ऐसा मैंने कुछ भी नहीं किया.

में : सच में.

सुमन : हाँ मैंने नहीं किया, लेकिन क्या तुमने किया है?

में : सच बताऊँ तो हाँ मैंने उसके साथ कई बार किया है.

सुमन : ओह क्या तुम सच कह रही हो? अच्छा यह बताओ कि वो सब करने में कैसा लगता है?

में : बहुत अच्छा लगता है और बहुत मज़ा भी आता है.

सुमन : अच्छा ऐसा है, लेकिन क्या वो सब करने से डर नहीं लगता?

में : जब उस काम को करने में मज़ा आने लगता है, तो उसके बाद बिल्कुल भी डर नहीं लगता.

सुमन : अच्छा मुझे लगता है कि उस काम को करने में बहुत मज़ा आता है यह बात मुझे तुम्हारे चेहरे से पता चल रही है.

में : हाँ तुमने ठीक पहचाना, मेरी ब्रा का नंबर 34 इंच है और तुम्हारा क्या आकार है?

सुमन : मेरी ब्रा का आकार 32 इंच है.

में : वैसे यार तेरा पिछवाड़ा बहुत अच्छा है.

सुमन : हाँ आपका भी बहुत अच्छा है.

अब मेरा मन करने लगा कि अगर बॉयफ्रेंड नहीं है तो क्यों ना में अपनी बहन के साथ ही मज़ा ले लूँ? और में अब यह बात अपने मन में सोचकर उत्साहित होकर उसको उकसाने लगी थी.

में : यार क्या कभी तुमने किसी के साथ चुम्मा किया है?

सुमन : नहीं यार मुझे यह सब करने से बहुत डर लगता है.

में : अच्छा तुम्हारा मन तो यह सब करने के लिए करता ही होगा ना? मेरा तो बहुत दिल करता है.

सुमन : हाँ, लेकिन में क्या करूँ मुझे बहुत डर भी लगता है?

में : क्या तुम वो सब करना चाहोगी?

अब वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर एकदम चकित होकर मेरी तरफ बहुत ध्यान से देखने लगी थी, लेकिन वो चुप ही रही शायद उसके मन में यह काम करने की इच्छा थी.

में : सुमन चलो आज हम दोनों एक दूसरे को मज़ा देते है, चलो आ जाओ सुमन आज हम दोनों अलग दुनिया में चले जाते है

दोस्तों अब तब तो गरम हो चुकी थी और अब उसका भी चेहरा मेरे साथ यह बातें करके पूरा लाल हो गया था और अब में अच्छी तरह से समझ सकती थी कि उसका मन दो तरफ जा रहा है और वो मन ही मन सोच रही है कि में क्या करूं हाँ करूं या ना? मैंने उसको अपने हाथों में उसके चेहरे को जकड़ लिया और इससे पहले कि वो कुछ बोलती, मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

फिर उसी समय में जब उसके होंठों को चूस रही थी तब मैंने महसूस किया कि उसने भी अब जोश में आकर मुझे कसकर जकड़ लिया है और इस वजह से में प्रसन्न होकर उसके होठों को कस कसकर चूस रही थी और मेरी बाहों में जकड़े होने की वजह से उसके बूब्स भी मेरे बूब्स से दबे हुए थे और रगड़ खा रहे थे. फिर मैंने बिना देर किए उसकी मेक्सी को खोल दिया और बिना समय खराब किए मैंने तुरंत ही उसको अपने सामने नंगा कर दिया और देखा कि वो बिना कपड़ो के बहुत ही अच्छी लग रही थी. अब मैंने अपनी मेक्सी को भी उतार दिया और अब हम दोनों एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे हो चुके थे और अपनी चकित नजरों से हम एक दूसरे के नंगे गोरे बदन को लगातार घूरकर देख रहे थे, लेकिन अब वो थोड़ा सा शरमा रही थी.

अब में उसके पास गयी और मैंने तुरंत ही उसके एक बूब्स को अपने मुहं में भर लिया और फिर में गपगप करके चूसने लगी, जिसकी वजह से उसको भी अब बहुत मज़ा आने लगा था. अब उसने मज़े और जोश के मिलेजुले असर की वजह से हिम्मत करके मेरे बूब्स की निप्पल को मसलना शुरू कर दिया और मैंने खुश होकर उसका साथ देते हुए उसके दोनों बूब्स को बार बार बूब्स को अपने हाथ से दबाते हुए चूसा और उसकी उठी हुई निप्पल को छोटे बच्चो की अपने मुहं में भरकर अच्छी तरह चूसा और चूस चूसकर एकदम लाल कर दिया.

First published on – https://hindipornstories.org/bhai-ki-do-hot-bahne/

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *